जकार्ता, भारतीय महिला टेनिस खिलाड़ी अंकिता रैना को सिंगल्स के सेमीफाइनल मुकाबले में चीन की खिलाड़ी शुआई जैंग के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा. जिसके बाद उन्हें कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा. इसके साथ ही अंकिता एशियाई खेलों की महिला एकल स्पर्धा में पदक जीतने वाली सिर्फ दूसरी भारतीय बनीं.

अंकिता को मिला ब्रॉन्ज मेडल

25 साल की अंकिता ने चीनी खिलाड़ी के सामने जबरदस्त प्रदर्शन किया. लेकिन दो घंटे से अधिक चले मुकाबले में 4-6, 6-7 (6) से हार का सामना करना पड़ा. इस सेमीफाइनल मुकाबले में अंकिता ने शानदार शुरुआत की. पहले सेट में वो अपनी प्रतिद्वंद्वी खिलाड़ी पर लीड ले रही थीं, लेकिन इस बीच वह चोटिल हो गईं और उन्होंने चोट से उबरने के लिए ब्रेक लिया. फीजियो और डॉक्टरी जांच के बाद अंकिता एक बार फिर कोर्ट पर उतरीं, लेकिन वह अपनी लय कायम नहीं रख पाई. पहले सेट में वह 4-6 से हार गईं.

संघर्ष करने बाद हारीं अंकिता

इसके बाद दूसरे सेट में उन्होंने कड़ा संघर्ष जरूर किया. लेकिन आखिरी में 6-7 से हारकर उन्हें खेल का दूसरा सेट और मैच दोनों गंवाना पड़ा. इस तरह 18वें एशियाई खेलों में उन्हें ब्रॉन्ज मेडल से संतोष करना पड़ा. इससे पहले बुधवार को उन्होंने हांग कांग की इउडिस वॉन्ग चॉन्ग को 6-4, 6-1 से मात देकर सेमीफाइनल में जगह बनाकर अपना यह मेडल पक्का कर लिया था.

सानिया मिर्जा जीत चुकी हैं एशियाई खेलों में पदक

एशियाई खेलों की महिला एकल स्पर्धा में भारत की ओर से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन सानिया मिर्जा ने किया है, जिन्होंने दोहा में 2006 में रजत पदक जीता था, जबकि चार साल बाद ग्वांग्झू में वह कांस्य पदक जीतने में सफल रहीं.