जकार्ता,  भारत के स्टार भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा ने एशियाई खेलों में भारत को 8वां गोल्ड मेडल दिलाया. खेलों के 9वें दिन उन्होंने 88.06  मीटर भाला फेंक कर इतिहास रचा. एशियाई खेलों में इससे पहले भारत को कभी भी स्वर्ण पदक हासिल नहीं हुआ था. आखिरी बार 1982 दिल्ली एशियाई खेलों में भारत के गुरतेज सिंह ने ब्रॉन्ज मेडल जीता था. गौरतलब है कि नीरज चोपड़ा ने गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में भी गोल्ड मेडल जीता था. तब उन्होंने 86.47 मीटर भाला फेंका था.

नीरज ने इस तरह जकार्ता में सर्वश्रेष्ठ थ्रो 88.06 मीटर की फेंकी और स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया. नीरज ने यह सोने का तमगा छह में से दो प्रयासों में विफलता के बाद भी हासिल किया.

इस मुकाबले में नीरज ने पूरे जोश और ताकत के  साथ भाला फेंका. पहली बार में उन्होंने 83.46 मीटर दूर भाला फेंका. दूसरी बार में वो फाउल कर गए. तीसरे प्रयास में उन्होंने 88.06 मीटर दूर भाला फेंका. चौथी कोशिश में 83.25 मीटर, पांचवीं में 86.63 मीटर और उनका छठा प्रयास फाउल गया. रजत पदक जीतने वाले चीन के किझेन लियू 82.22 मीटर की थ्रो फेंक कर दूसरे स्थान पर, तो वहीं पाकिस्तान के नदीम अरशद ने 80.75 की सर्वश्रेष्ठ थ्रो फेंक कांस्य पदक हासिल किया.

18वें एशियाई खेलों में अब तक भारत के कुल पदकों की संख्या 41 है. 8 गोल्ड, 13 सिल्वर और 20 ब्रॉन्ज मेडल के साथ वह पदक तालिका में 9वें स्थान पर है.

लंबी कूद में नीना ने जीता रजत

नौवें दिन भारतीय खिलाड़ियों के रजत पदक जीतने का सिलसिला जारी रहा. केरल की नीना वरक्कल महिलाओं की लंबी कूद स्पर्धा में दूसरे पायदान पर रहीं. नीना ने सोमवार को हुए फाइनल में 6.51 मीटर के साथ रजत पदक अपने नाम किया.

फाइनल में नीना ने दमदार शुरुआत की और पहले प्रयास में 6.41 मीटर की कूद लगाई. दूसरे और तीसरे प्रयास में उन्होंने 6.40 और 6.50 मीटर की दूरी तय की, जबकि पांचवें प्रयास में उन्होंने 6.51 मीटर की कूद लगाई. अगले दो प्रयासों में वह 6.46 और 6.50 मीटर की ही दूरी तय कर पाईं.

वियतनाम की थाओ थू थी बुई ने 6.55 मीटर की कूद लगाते हुए स्वर्ण, जबकि चीन की शिओलिंग शू ने 6.50 मीटर की कूद लगाते हुए कांस्य पदक अपने नाम किया.

स्टीपलचेज में सुधा सिंह ने सिल्वर दिलाया

रायबरेली की धाविका सुधा सिंह ने महिलाओं की 3000 मीटर स्टीपलचेज स्पर्धा के फाइनल में रजत पदक पर कब्जा जमाया. सुधा ने 9 मिनट 40.03 सेकेंड में दूरी तय करते हुए दूसरा स्थान हासिल किया.

2010 की एशियाई खेलों में स्वर्ण जीतने वाली सुधा एक समय स्वर्ण पदक की दौड़ में थीं, लेकिन बहरीन की विनफ्रेड यावी से पीछे रह गईं. विनफ्रेड ने 9 मिनट 36.52 सेकेंड का समय निकालते हुए स्वर्ण पदक जीता. कांस्य पदक पर वियतनाम की थि ओन्ह गुयेन ने 9 मिनट 43.83 सेकेंड का समय निकला.

400 मी. हर्डल रेस में धरुण का कमाल

तमिलनाडु के 21 साल के एथलीट धरुण अय्यासामी ने पुरुषों की 400 मीटर बाधा दौड़ स्पर्धा के फाइनल में अपना सर्वश्रेष्ठ देते हुए नए राष्ट्रीय रिकॉर्ड के साथ रजत पदक पर कब्जा किया. धरुण ने 48.96 सेकेंड का समय निकालते हुए दूसरा स्थान हासिल किया.

भारत के संतोष कुमार तमिलारसन ने 49.66 सेकेंड का समय निकालते हुए पांचवां स्थान हासिल किया. स्वर्ण पदक कतर के अब्देररहमान सांबा के नाम रहा, जबकि जापान के ताकातोशी अबे को कांस्य से संतोष करना पड़ा. अब्देररहमान ने 47.66 और ताकातोशी ने 49.12 सेकेंड में रेस पूरी की.

पीवी सिंधु ने सिल्वर किया पक्का

भारत की स्टार महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने महिला सिंगल्स का दूसरा सेमीफाइनल मुकाबला जीत कर फाइनल में जगह बना ली है. उन्होंने जापान की अकाने यामागुची को संघर्षपूर्ण मुकाबले में 21-17, 15-21, 21-10 से हराया. इसके साथ ही सिंधु एशियन गेम्स के फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी भी बन गई हैं.

इससे पहले कोई भी भारतीय पुरुष या महिला खिलाड़ी एशियाड के फाइनल तक नहीं पहुंच पाए थे. रियो ओलंपिक की सिल्वर मेडलिस्ट सिंधु से अब गोल्ड मेडल की उम्मीदें बढ़ गई हैं. फाइनल में उनका मुकाबला वर्ल्ड नंबर एक चीनी ताइपे की खिलाड़ी ताई जु यिंग से होगा. गोल्ड मेडल के लिए यह मुकाबला 28 अगस्त को खेला जाएगा.

सेमीफाइनल में हारीं साइना कांस्य से करना पड़ा संतोष

एशियाई खेलों के नौवें दिन भारत की झोली में कांस्य के रूप में पहला मेडल आया. बैडमिंटन के महिला सिंगल्स सेमीफाइनल मुकाबले में साइना नेहवाल को हार का सामना करना पड़ा. उन्हें चीनी ताइपे की वर्ल्ड नंबर-1 खिलाड़ी ने 21-17, 21-14 से शिकस्त देकर फाइनल में जगह पक्की की.

इसके साथ ही वर्ल्ड नंबर-10 साइना को ब्रॉन्ज मेडल से संतोष करना पड़ा. ताई जू यिंग के खिलाफ साइना की यह लगातार दसवीं हार है. इसके साथ ही एशियाई खेलों में महिलाओं के बैडमिंटन में भारत को पहला व्यक्तिगत पदक मिला है.

हॉकी : रानी की हैट्रिक से अंतिम ग्रुप मैच जीता भारत

कप्तान रानी रामपाल की हैट्रिक के दम पर भारतीय महिला हॉकी टीम ने थाईलैंड को 5-0 से मात दी. टीम ने अपने तीसरे मैच को जीतकर पहले ही सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया है.

स्क्वैश :

पहला ग्रुप मैच भारतीय पुरुष टीम ने जीता

भारत की पुरुष टीम ने मेजबान इंडोनेशिया को करारी शिकस्त दी. भारतीय टीम ने सोमवार को हुए इस मुकाबले में इंडोनेशिया को 3-0 से हराया. सौरभ घोषाल, हरिंदर पाल सिंह संधू, रमित टंडन और महेश मनगांवकर की टीम ने इंडोनेशिया के खिलाड़ियों को वापसी का कोई मौका न देते हुए मैच में जीत दर्ज की.

पहला ग्रुप मैच जीतीं भारतीय महिलाएं

भारतीय महिला स्क्वैश टीम ने पूल-बी में खेले गए अपने पहले मैच में ईरान को 3-0 से मात दी. भारतीय टीम अब दूसरा मैच मंगलवार को थाईलैंड के खिलाफ खेलेंगी. भारत की  टीम में जोशना चिनप्पा, दीपिका पल्लीकल, सुनैना कुरुविल्ला और तन्वी खन्ना शामिल हैं.

कराटे : 75 किग्रां प्री-क्वार्टर फाइनल में हारे शरथ

भारत के कराटे खिलाड़ी शरथ कुमार को पुरुषों की 75 किलोग्राम स्पर्धा के प्री-क्वार्टर फाइनल में हार का सामना करना पड़ा. बेंगलुरु के 23 वर्षीय निवासी शरथ को प्री-क्वार्टर फाइनल में दक्षिण कोरिया के मुइल किम ने 1-0 से मात दी.

टेबल टेनिस : मकाउ से जीती भारतीय पुरुष टीम

भारत की पुरुष टेबल टेनिस टीम ने ग्रुप स्तर पर खेले गए अपने तीसरे मैच में जीत हासिल की. भारतीय टीम ने ग्रुप-डी में मकाउ को 3-0 से मात दी. वह अपना अंतिम ग्रुप मैच वियतनाम के खिलाफ खेलेगी. ऐसे में भारत के पास अब भी क्वार्टर फाइनल में पहुंचने की उम्मीद बरकरार है.

मुक्केबाजी : विकास क्वार्टर फाइनल में

भारत के मुक्केबाज विकास कृष्ण ने 5 किलोग्राम भारवर्ग के मुकाबले में जीत हासिल करते हुए क्वार्टर फाइनल में कदम रखा लिया. विकास ने अंतिम-16 के मैच में पाकिस्तान के तनवीर अहमद को एकतरफा मुकाबले में 5-0 से मात दी.

वॉलीबॉल : भारतीय महिला टीम लगातार पांचवां मैच हारी

भारत की महिला वॉलीबॉल टीम को चीन के खिलाफ हुए पूल बी के अपने आखिरी मुकाबले में हार झेलनी पड़ी. चीन ने भारत को एकतरफा मुकाबले में 3-0 से हराया. ग्रुप स्तर के मैचों में भारत की यह लगातार पांचवीं हार है.