रमजान के महीने में खजूर का भी बहुत महत्व है। कई जगह रमजान का महीना शुरू होने की खुशी में लोग एक दूसरे को उपहार के रूप में खजूर भी देते हैं लेकिन धार्मिक मान्यता के साथ ही खजूर का वैज्ञानिक महत्व भी है। खजूर खाने से कई फायदे होते हैं। 
रोजे के दौरान दिनभर भूखा प्यासा रहने से कई लोगों को सिर दर्द, थकान, चक्कर आने लगते हैं। वहीं कुछ लोगों को लो ब्लड प्रेशर और डीहाइड्रेशन की समस्या होने लगती है। ऐसे में खजूर खाकर रोजा खोलना सबसे अच्छा विकल्प है। खजूर में पर्याप्त मात्रा में ग्लूकोज, फ्रक्टोज और सुक्रोज पाया जाता है। इफ्तार और सहरी में दो से चार खजूर खाने से भी शरीर को तुरंत ही उर्जा मिलती है।
खजूर में भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। इसके सेवन से हाजमा बेहतर होता है। साथ ही एसिडिटी की समस्या भी दूर होती है। खजूर से रोजा खोलने से एसिडिटी से राहत मिलती है। 
खजूर में कैल्शयिम, मैगनीज और कॉपर की भी भरपूर मात्रा होती है। इसके सेवन से हड्डियों को मजबूती मिलती है।
खजूर में पोटैशियम और थोड़ी मात्रा में सोडियम मौजूद होता है। ये दोनों शरीर के नर्वस सिस्टम के फंक्शन को बेहतर करते हैं। इसके अलावा पोटैशियम कोलेस्ट्रोल भी कम करता है, जिससे दिल की बीमारी और स्ट्रोक का खतरा कम होता है। खजूर में मौजूद मैग्नीशियम और पोटैशियम ब्लड प्रेशर को बढ़ने से रोकते हैं। 2-3 खजूर का सेवन ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए फायदेमंद होता है।