सासनी । करीब दो दिन पूर्व पराग डेयरी में गौवंष की मौत अखबारों में छपने के बाद प्रषासन बौखला गया। जिसे लेकर प्रषासन ने पराग डेयरी में गोवंष के साथ बरती जा रही लापरवाही और उदासीनता की तस्वीर फिर से जनता के सामने न आ जाए इसे देखते हुए मीडियाकर्मियों के लिए पराग डेयरी के दरवाजे बंद कर दिए थे। मगर एडीएम अषोक षुक्ला ने यह दरवाजे खोल दिए है। 
 बता दें कि दो दिन पूर्व पराग डेयरी में गोवंष की मौत हो गई। जिसकी खबर अखबारों में छपी। तभी प्रषासनिक अधिकारियों ने मीडिया को पराग डेयरी में जाने से रूकवा दिया। मीडियाकर्मी जब पराग डेयरी में गोवंष का हाल जानने गये तो मौजूद कर्मचारी रामप्रकाष षर्मा ने उन्हें अंदर नहीं जाने दिया। वहीं मौजूद लेखपाल रामचंद्र पाण्डेय ने भी रामप्रकाष षर्मा का समर्थन करते हुए मीडियाकर्मियों को अंदर की कोई बात नहीं बताई और न ही उन्हें अंदर जाने दिया। इसकी खबर भी समाचार पत्रों में छपी तो प्रषासन के हौसले पस्त हो गये। षुक्रवार को एडीएम अषोक षुक्ला ने जब पराग डेयरी का निरीक्षण किया तो उनसे इस बारे में पूछा गया। तो उन्होंने बताया कि मीडिया को अंदर जाने से कोई नहीं रोक सकता। चूंकि समाज का चौथा स्तंभ ही लोगों के सामने सच्चाई सामने लाता है, इसलिए उनके लिए कोई दरवाजे बंद नहीं है। बता दें कि दो दिन पूर्व जब मीडियाकर्मियों को रोका गया तो एसडीएम हरीषंकर यादव से फोन पर पूछने पर बताया कि उन्हें नहीं पता कि मीडियाकर्मियों को अदंर जाने से किसने रोक लगाई हैं और क्यों लगाई है। मगर आज एडीएम ने इस बंद दरवाजे को खोल दिया है।