बिलासपुर । जि़ला कांग्रेस और शहर कांग्रेस कमेटी ने आज कांग्रेस भवन में झीरम घाटी नक्सली हमले ७ वीं शहादत दिवस मना कर अपने प्रिय नेताओ को पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि दी । इस अवसर पर विधायक रश्मि आशीष सिंह ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार ने इस जघन्य नक्सली हमले की जाँच ठीक से नही कराई ,पर अब कांग्रेस सरकार ने एस आई टी का गठन कर दी है , जिसे शहीद परिवार को न्याय की उम्मीद जगी है, जि़ला अध्यक्ष विजय केशरवानी ने कहा कि जब तक उस घटने में लिप्त नक्सली और उनके मददगारों को जब सजा मिलेगी तभी शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी ,भूपेश सरकार ने इस ओर बड़ी तत्परता के साथ कदम बधाई है, जिसका सुखद परिणाम निकलेगा,शहर अध्यक्ष नरेंद्र बोलर ने कहा परिवर्तन यात्रा में प्रदेश का शीर्ष नेतृत्व शामिल थे पर सरकार ने उन्हें कोई माकूल सुरक्षा नही दी और न ही घटना के बाद जाँच हुई, न ही दोषी अधिकारियो को दंडित किया गया जिससेपूर्व सरकार पर संदेह बार लाजिमी है ,विवेक बाजपेयी ने कहा कि झीरम घाटी का वह मंजर आज भी जेहन में है, स्मरण होते ही वो चीख -पुकार, वो क्रन्दन, बन्दूको की बुलेट की गूंज, खून से लथपथ जमीन पर जीवन के लिए संघर्ष नेता,और हमारे बड़े नेता जिन्हें नक्सली पकड़ कर ले गए थे के लिए कुशंका से व्याकुल मन में बदहवास करने के लिए काफी है, सैय्यद जफ़? अली, चन्द्र प्रकाश बाजपेयी, एस एल रात्रे, आशा सिंह ने कहा स्व नन्द कुमार पटेल, स्व विद्याचरण शुक्ल, महेंद्र कर्मा, उदय मुदलियार, दिनेश पटेल ने जिस तरह से चुनावी रणनीति से काम कर रहे थे, सत्ता पक्ष में बैचेनी थी, पर्याप्त सुरक्षा न देना, नक्सली कुछ दिनों से उस क्षेत्रो में  इकञ्े हो रहे थे, एल आई बी या अन्य विभाग जो इसके लिए काम करते है , उनका भी फीडबैक न होना,जाँच का परिणाम ५ वर्ष तक न आना, राष्ट्रिय जाँच एजेंसी को न सौपना कहीं न  कहीं सन्देह को और बढ़ाता है। पूर्व सांसद राज्य सभा, कवि, लेखक श्रीकांत वर्मा की पुण्यतिथि में कांग्रेसजन उनके आदमकद प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी। कार्यक्रम को भुवनेश्वर यादव, कृष्ण कुमार यादव, शिवा मिश्रा ने भी सम्बोधित किया। कार्यक्रम में प्रदेश सचिव रामशरण यादव, राकेश शर्मा, विनोद शर्मा, त्रिभुवन कश्यप, जिनेश जैन, ऋषि पांडेय, शैलेंद्र जायसवाल, विनोद साहू, अनिल सिंह चौहान, सुभाष ठाकुर, मनोज शर्मा, कमलेश लावहात्रे, आशा पांडेय, सीमा सोनी, कामाक्षी पटनवार, पुष्पा शर्मा, निरुपमा बाजपेयी, शहज़ादी कुरैशी, सुदेश नन्दनी, सुभाष सराफ, अन्नपूर्णा यादव, अजय काले, राजेश शर्मा, राजेश यादव, कुंदन काम्बले, एस कपूर, अतहर खान, पुष्पेंद्र मिश्रा, आदेश पांडेय, राहुल देव, कैलाश मिश्रा, रशीद बक्श, बद्री यादव, प्रदीप पांडेय, विनय जांगड़े, शिवा निर्मलकर, दिनेश सूर्यवंशी, संजय सिंघानिया, दुर्गेशी धनकर, पूना कश्यप, अजय पन्त, राजेंद्र शर्मा आदि उपस्थित थे।