ग्वालियर   ग्वालियर रेल सुरक्षा बल की बड़ी कार्यवाही ट्रेनों को रोकने के लिए आईबीएच सिग्नल पर चढ़कर हरे सिग्नल को कपडे से बंद करके लाल एलईडी बल्ब जलाकर गाड़ी रोककर लूट करने का बड़ा मामले का रेलवे पुलिस ने किया पटाक्षेप। जलालपुर से बानमोर के बीच देते थे घटना की वारदात को अंजाम।
घटना दिनांक ३० मार्च १९ की है कुछ अज्ञात बदमाशों ने रात्रि ११:२५ बजे सिग्नल को बंद करके अप रोड पर स्पेशल मालगाड़ी के ड्राइवर को भ्रमित करने का प्रयास किया था परंतु मामला गर्ल बाद एक ड्राइवर ने तुरंत गाड़ी स्टार्ट कर के आगे बढ़ा दी थी उसकी जानकारी स्टेशन मास्टर बानमोर को दी। मामला बेहद संगीन था इसलिए सेफ्टी एंड सिक्योरिटी से जुड़ा होने के कारण मंडल सुरक्षा आयुक्त रेल सुरक्षा बल झांसी के निर्देशन पर रेल सुरक्षा पोस्ट ग्वालियर निरीक्षक आरके पांडे द्वारा मामले को गंभीरता से लेते हुए दिनांक १ ६ २०१९ को रात्रि अज्ञात चोरों को पकड़ने के लिए टीम गठित कर गुप्त नखरा नी कर रहे थे समय लगभग २:१० पर सिग्नल के ऊपर चल रहे दो लोगों को मौके पर छपे रेल सुरक्षा बल के सुरक्षाकमिNयों ने दबोच लिया वही मौके पर अन्य ३ लोग भागने में सफल रहे। इनके कब्जे से एलईडी लाइट २१ मीटर बिजली का तार ३० मीटर पतली रस्सी ३ सिंगनल ढकने वाले कपड़े भी मिले हैं।

पकड़े गए आरोपियों में राजू पुत्र सुल्तान उम्र २२ वर्ष पता हड्डी मिल बानमोर जिला मुरैना दूसरा सत्यनारायण पुत्र अहिबरन उम्र २१ वर्ष हड्डी मीन बानमोर जिला मुरैना पकड़े गए आरोपियों से रेल सुरक्षा बल कमिNयों ने पूछताछ करते हुए बताया कि उनके साथी विजय पूरन बा मुरारी के साथ नूराबाद और राजू के जलालपुर गांव के पास रात्रि के समय रेलवे सिग्नल को कपड़े से ढककर व नकली एलईडी लाल रंग की लाइट सिगनल के खंबे पर बांधकर जला देते थे हॉट ट्रेनों को रोक कर अपराध लूटपाट करते थे।
रेल सुरक्षा बल पोस्ट ग्वालियर द्वारा ऐसे बदमाश अपराधियों को पकड़कर ना केवल रेलवे के अपराध को रोका गया है बल्कि इस घटना के कारण प्रभावित हो हो रही रेलवे सेफ्टी को भी बचाया है दोनों अपराधियों के खिलाफ रेल सुरक्षा बल ने धारा १५३ १७४ सी एवं १४७ रेलवे एक्ट के तहत कार्रवाई कर अग्रिम कार्यवाही के लिए न्यायालय में पेश कर जेल भेज भेज दिए गए हैं।