ग्वालियर मध्य प्रदेश के २७ जिले भीषण गर्मी की चपेट में है जिनके चलते जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग लगातार चेतावनी दे रहा है भीषण गर्मी से बचने के लिए स्वयं उपाय करें लेकिन ग्वालियर में कोचिंग संचालक भीषण गर्मी को ना देखते हुए बच्चों को दोपहर में ही कोचिंग पढ़ने के लिए बुला रहे हैं जानकारी के मुताबिक मध्य प्रदेश के जहां २७ जिले पूरी तरह भीषण गर्मी की चपेट में हैं और पारा ४४ डिग्री से ४९ डिग्री तक चल रहा है ऐसे में प्रदेश के कई जिलों से लू की चपेट में लोगों के आने से मौतें हो रही हैं ग्वालियर में भी विगत दिनों एक जीआरपी के कांस्टेबल की लू चपेट से मौत हो गई जिसे देखते हुए जिला प्रशासन ने सभी शिक्षण संस्थानों को कड़ी चेतावनी दी गई है कि बच्चों के लिए पर्याप्त समय के अनुसार ही पढ़ाने का समय निर्धारित किया जाए लेकिन ग्वालियर में कोचिंग संचालक है कि कलेक्टर के आदेशों को बिल्कुल भी तवज्जो नहीं दे रहे हैं और कोचिंग संचालक हैं कि दोपहर १२:०० बजे से ५:०० बजे तक बच्चों को नियमित कोचिंग की क्लास  ले रहे हैं इसी के चलते कल दोपहर दो बच्चे जिन्हें फूल बाग पर अचानक गर्मी से चक्कर आकर गिर पड़े जिन्हें राहगीरों ने तत्काल  देखभाल करते हुए परिजनों तक पहुंचाया लेकिन कोचिंग संचालक हैं कि फिर भी बच्चों को दोपहर में ही कोचिंग पढ़ाने के लिए बुला रहे हैं जिला प्रशासन को कोचिंग संचालकों पर भी नियम लागू करने चाहिए जिससे कोचिंग पढ़ने आने वाले बच्चों को ऐसी भीषण गर्मी से राहत मिल सके