इंदौर । भाजपा द्वारा आज किसानों के मुद्दे सहित विभिन्न मुद्दों पर ली गई पत्रकार वार्ता पर प्रदेश के मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ,तुलसी सिलावट ,जीतू पटवारी ,मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ,विधायक विशाल पटेल ,संजय शुक्ला , प्रमोद टंडन, विनय बाकलीवाल ने पलटवार करते हुए कहा कि भाजपा द्वारा आज पत्रकार वार्ता में कांग्रेस सरकार पर व किसानो को लेकर लगाए गए सभी आरोप झूठे हैं व झूठ का पुलिंदा मात्र हैं।
कमलनाथ सरकार की जय किसान फसल ऋण माफी योजना से किसान बेहद खुश है ,किसानो में कोई आक्रोश नहीं है। भाजपा सिर्फ़ झूठ बोलकर गुमराह करने का काम कर रही है। ग्रामीण  क्षेत्र में किसान खुश है ,इसीलिए भाजपा को किसानों के मुद्दे पर शहर के व्यस्ततम मार्ग पर ट्रैक्टर रैली निकालना पड़ रही है। पुरानी ट्रैक्टर रैली का इतिहास भी सब जानते हैं कि किस प्रकार कंपनियों से नए बिना नंबर के ट्रैक्टरों को लाकर शहरी नेताओं को उस में बिठाकर, किस प्रकार से जनता को परेशान करते हुए ट्रैक्टर रैली निकाली गई थी।
भाजपा कह रही है कि किसानों की कर्ज माफी नहीं हो रही है और उन्हें खाद, बीज के लियें नया लोन नहीं मिल रहा है। जबकि कल ही प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने जय किसान फसल ऋण माफी के दूसरे चरण की घोषणा की है और कहा है किसान नया लोन ले सकते हैं। लोन माफी की प्रक्रिया उसमें बाधा नहीं है।
ऋणमाफी की सच्चाई यह है कि आचार संहिता के पूर्व 21 लाख किसानों का कर्ज माफ किया जा चुका है। आचार संहिता के बाद वापस कर्ज माफी की प्रक्रिया प्रारंभ हो चुकी है। जिसके तहत शेष बचे किसानों के 2 लाख तक के फसल ऋण माफ किए जाना है। कांग्रेस ने तो भाजपा के झूठ का पर्दाफ़ाश करते हुए ऋण माफी के प्रमाण , प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को घर जाकर भी सौंप दिए थे।  फिर भी भाजपा क़र्ज़माफ़ी पर निरंतर झूठ परोस रही है। 
वैसे भी जिस भाजपा ने अपने पूरे कार्यकाल में किसानों का 1 रुपये  का भी कर्ज माफ नहीं किया,जिन के राज में सर्वाधिक किसान आत्महत्या करते थे ,जिन के राज में खेती घाटे का धंधा बन गयी थी, जिन के मुखिया शिवराज सिंह चौहान खुद किसानों को खेती छोड़ नौकरी उद्योग लगाने की सलाह देते थे,वह किस मुंह से कर्ज माफी पर बात कर रहे है। बेहतर हो भाजपा को तो यह रैली अपनी केंद्र सरकार के खिलाफ निकालना चाहिए जो कि भावांतर योजना की राशि अभी तक  प्रदेश सरकार को नहीं दे रही है ,साथ ही वर्तमान गेहूं उपार्जन की लिमिट भी नहीं बढ़ा रही है।
जहां तक बिजली आपूर्ति को लेकर लगाए गए आरोप है ,उसको लेकर भी वास्तविकता यह है कि बिजली आपूर्ति की व्यवस्था में पिछली भाजपा सरकार के मुकाबले उल्लेखनीय सुधार हुआ है।मांग एवं आपूर्ति घोषित एवं अघोषित कटौती के साथ ही बिजली अधोसंरचना के क्षेत्र में भी उल्लेखनीय काम किया गया है।
प्रदेश में वर्ष 2019 में जनवरी से मई की अवधि में कुल 32987.9 मिलीयन यूनिट विद्युत प्रदाय किया गया जो पिछले वर्ष 2018 में इसी अवधि में प्रदाय 29207.57 मिलियन यूनिट से 12.9% अधिक रहा है।
बड़ा ही आश्चर्यजनक है कि जिस भाजपा ने अपने 15 वर्ष के शासनकाल में अपने घोषणापत्र के वादों को पूरा नहीं किया ,वह आज मात्र  6 माह की कांग्रेस सरकार को उसके घोषणा पत्र के वादे की याद दिला रहे हैं।हमारी सरकार को मात्र 6 माह हुए हैं ,5 साल की सरकार है। हम हमारे वचन पत्र के हर वचन को पूरा करेंगे। मात्र 76 दिन में हमने अपने वचन पत्र के 83 वचनो को पूरा किया है।
कमलनाथ सरकार ने ना संबल योजना बंद कर ही है और ना ही गरीबों के अंतिम संस्कार की राशि देना बंद की है। भाजपा सिर्फ झूठ बोलकर जनता को गुमराह करने का काम कर रही है।