मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ और नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री जयवर्द्धन सिंह के निर्देश पर आयुक्त नगरीय विकास श्री पी. नरहरि ने भोपाल नगर निगम की पेयजल आपूर्ति की समीक्षा की। उन्होंने पानी की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। इसके लिये पानी का लीकेज रोकने, कॉल सेन्टर में आने वाली समस्याओं का त्वरित निराकरण करने और आवश्यकता अनुसार टैंकर से पानी की आपूर्ति करने के निर्देश दिये।

श्री नरहरि ने कहा कि पेयजल परिवहन के लिये राशि की कमी हो, तो तुरंत डिमांड भेजे। उन्होंने कहा कि किसी भी हालत में नागरिकों को पेयजल की समस्या नहीं होनी चाहिये।

बैठक में नगर निगम आयुक्त श्री विजय दत्ता ने बताया कि भोपाल मे नर्मदा, कोलार, केरवा डेम और बड़े तालाब से पेयजल की आपूर्ति की जाती है। गत वर्ष कम वर्षा की वजह से बड़े तालाब में कुल क्षमता का लगभग 50 प्रतिशत ही पानी संग्रहीत हो पाया था। सामान्य रूप से बड़े तालाब से प्रतिदिन 30 मिलियन गैलन पानी लिया जाता है। वर्तमान में तालाब में पानी की कमी के कारण मात्र 19-20 मिलियन गैलन पानी प्रतिदिन लिया जा रहा है। शेष पानी की भरपाई नर्मदा और कोलार डेम से कर रहे है। नगर निगम आयुक्त ने बताया कि वर्तमान में बड़े तालाब का जल-स्तर 1650.80 फीट है। उन्होंने बताया कि भोपाल नगर में जून माह तक पेयजल की आपूर्ति में कोई कठिनाई नहीं होगी। संकटग्रस्त क्षेत्रों में पेयजल आपूर्ति के लिये नगर निगम के 70 और 29 प्रायवेट टैंकर लगाये गये हैं। लोगों की मांग पर तुरंत टैंकर से पेयजल आपूर्ति की जाती है।