श्रीनगर: कश्मीर में पिछले हफ्ते से आतंकवादी घटनाओं की बाढ़ और सुरक्षाबलों के नुकसान ने उस आशंका को पक्का कर दिया जो खुफ़िया एजेंसियां जता रही थीं. अगले कुछ हफ्तों में सुरक्षा बलों को बेहद सतर्क रहना होगा. कश्मीर में पाकिस्तान से रिमोट कंट्रोल से चलाए जा रहे आतंकवादी गिरोह चौतरफा हमलों की ताक में हैं. दक्षिण कश्मीर के बजाए उत्तर कश्मीर में सुरक्षा बलों के क़ाफिलों पर ज्यादा हमले होंगें और लाइन ऑफ कंट्रोल पर सैनिकों पर हमलों को तेज़ किया जाएगा.

खुफ़िया एजेंसियों ने चेतावनी दी है कि आतंकवादी अब दक्षिण कश्मीर के साथ-साथ उत्तर कश्मीर में सुरक्षा बलों के क़ाफिलों को ज्यादा निशाना बनाएंगे. उत्तर कश्मीर के बारामुला में आतंकवादियों के दो ग्रुप सैनिकों के काफिले पर हमले की तैयारी कर रहे हैं. वहीं श्रीनगर से कुपवाड़ा जाने वाले हाईवे पर जैशे मोहम्मद को हमला करने की ज़िम्मेदारी दी गई है. 

बारामुला, सोपोर, कुपवाड़ा जैसे उत्तरी कश्मीर के इलाक़े विदेशी आतंकवादियों के गढ़ माने जाते थे. लेकिन सुरक्षा बलों की कार्रवाइयों से यहां से आतंकवादियों का लगभग सफ़ाया हो गया है. अब पाकिस्तान दोबारा इन जगहों पर आतंकवादियों के अड्डे बनाना चाहता है. 

साथ ही पाकिस्तान को ये भी लगता है कि दक्षिण कश्मीर में सक्रिय मुजाहिदीन जैसे स्थानीय आतंकवादी संगठन ज्यादा असरदार नहीं रहे इसलिए वो कश्मीर में पाकिस्तानी आतंकवादियों की मौजूदगी बढ़ाना चाहता है.

घाटी के साथ-साथ लाइन ऑफ कंट्रोल पर भी कुछ हफ्ते सेना के लिए बहुत चौकसी वाले होंगे. बहुत भरोसेमंद ख़बर के मुताबिक पुछ के सामने पड़ने वाले पीपी डाउन में आतंकवादी और पाकिस्तानी स्पेशल फोर्सेज़ BAT एक्शन की तैयारी में हैं.