हिन्दी पंचांग का नया माह आषाढ़ मंगलवार, 18 जून से शुरू हो गया है। ये माह 16 जुलाई तक रहेगा। इसके बाद सावन माह शुरू हो जाएगा।

जानिए आषाढ़ मास में कब कौन सी विशेष तिथियां आएंगी

अमावस्या - मंगलवार, 2 जुलाई को हलहारिणी अमावस्या है। इस तिथि पर पितर देवताओं के लिए विशेष धूप-ध्यान करना चाहिए। इसी तिथि पर सूर्य ग्रहण भी होगा, लेकिन ये ग्रहण भारत में नहीं दिखेगा। सूर्य ग्रहण अमेरिका और प्रशांत महासागर में दिखाई देगा।
विनायकी चतुर्थी व्रत - शनिवार, 6 जुलाई को गणेशजी के लिए व्रत रखने की तिथि विनायकी चतुर्थी है।

देवशयनी एकादशी - शुक्रवार 12 जुलाई को देवशयनी एकादशी है। इस संबंध में मान्यता है कि इस तिथि से भगवान विष्णु शयन करते हैं और देवउठनी एकादशी पर जागते हैं। इसी दिन से चातुर्मास भी शुरू हो जाएंगे।

गुरु पूर्णिमा - मंगलवार, 16 जुलाई को गुरु पूर्णिमा है और इसी दिन चंद्र ग्रहण भी होगा। चंद्र ग्रहण रात 1.30 बजे के बाद शुरू होगा और मोक्ष 4.30 बजे। इसी तिथि पर आषाढ़ मास खत्म हो जाएगा।

गणेश चतुर्थी व्रत -गुरुवार, 20 जुलाई को गणेश चतुर्थी व्रत रहेगा। इस तिथि पर व्रत रखा जाता है और चंद्र दर्शन के बाद गणेश पूजा की जाती है।

योगिनी एकादशी -
शुक्रवार, 28 जुलाई को आषाढ़ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी है। इस तिथि पर भगवान विष्णु के लिए व्रत रखा जाता है।