नई दिल्ली ।  भारतीय टेनिस खिलाड़ियों की टीम डेविस कप मुकाबला खेलने 55 साल के बाद पाकिस्तान जा सकती है। अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) का मानना है कि केंद्र सरकार सितंबर में इस दौरे के लिए खिलाड़ियों को अनुमति दे सकती है। भारतीय डेविस कप टीम मार्च 1964 के बाद से ही पाकिस्तान दौरे पर नहीं गई। उस समय लाहौर में डेनिस कप खेला गया था, जिसे भारत ने 4-0 से जीता था। एआईटीए के महासचिव हिरणमय चटर्जी ने कहा, 'हमने सरकार को इस संबंध में पत्र लिखा है और उम्मीद है कि हम पाकिस्तान जाएंगे, हमें ऐसा लगता है।' उन्होंने कहा, 'यह द्विपक्षीय सीरीज नहीं है, यह विश्व कप जैसा है, इसलिए सरकार के अनुमति देने की पूरी संभावनाएं हैं। मुझे विश्वास है कि हम डेविस कप के लिए पाकिस्तान जा पाएंगे। वहीं पाकिस्तान टेनिस महासंघ ने कहा है कि यह मुकाबला इस्लामाबाद में खेला जाएगा।'
इस एशिया ओसेनिया ग्रुप एक मुकाबले का विजेता विश्व ग्रुप क्वॉलिफायर में जाएगा। इन दोनों देशों के बीच आखिरी मुकाबला 2006 में मुंबई में खेला गया था, जिसमें भारत ने 3-2 से जीत दर्ज की थी। गैरखिलाड़ी कप्तान महेश भूपति भी उस टीम का हिस्सा थे। उस टीम में दिग्गज लिएंडर पेस, प्रकाश अमृतराज और रोहन बोपन्ना भी शामिल थे। इससे पहले भारत और पाकिस्तान का मैच 1973 में मलयेशिया में तटस्थ स्थल पर खेला गया था। इस बीच पाकिस्तान टेनिस महासंघ (पीटीएफ) के सलमी सैफुल्लाह ने कहा कि वे घास वाले कोर्ट पर इस मुकाबले की मेजबानी करेंगे। पीटीएफ अध्यक्ष ने कहा, 'भारत और पाकिस्तान के मुकाबले में दर्शकों की काफी रुचि होती है और इसलिए हमें घसियाले कोर्ट पर होने वाले मुकाबले के सीधे प्रसारण से अच्छी खासी रकम हासिल होने की उम्मीद है।'