ग्वालियर गजराराजा मेडीकल कालेज की एसोसियेट प्रोफेसर डॉ. प्रतिभा गर्ग के खिलाफ एक एसडीएम द्वारा अवैध गर्भपात को लेकर किये गये स्टिंग ऑपरेशन के बाद से जहां सभी चिकित्सक आज हड़ताल पर रहे , वहीं कलेक्टर और विधायकों के हस्तक्षेप के बाद महिला एसडीएम का तबादला कर दिया गया और एक जांच समिति गठित कर पूरे मामले की जांच होगी।
शनिवार २९ जून को महिला भगत अपने को मरीज बताते हुए गर्भपात कराने के बहाने एक नर्स से मिली। नर्स ने उन्हें कमलाराजा अस्पताल की एसोसियेट प्रोफेसर डॉ. प्रतिभा गर्ग के क्लीनिक पर भेजकर गर्भपात कराने की सलाह दे डाली। एसडीएम डॉ. प्रतिभा के पास पहुंची और उनसे गर्भपात कराने के लिए कहा। इसके लिए उन्होंने गरीबी का हवाला भी दिया। पहले तो डॉ. गर्ग ने गर्भपात करने के लिए मना किया लेकिन काफी जोर डालने पर वह दस हजार का खर्चा बता कर अल्ट्रासाउंड कराने के लिए पर्चा लिख दिया। एसडीएम भगत कुछ देर बाद विश्वविद्यालय थाना पुलिस को लेकर डॉ. गर्ग की क्लीनिक पर पहुंची और डाक्टर दंपत्ति को थाने ले आई। इसके बाद काफी देर तक डाक्टर दंपत्ति को थाने में लगभग रात तक बैठाये रखा। डाक्टर का स्टिंग के बहाने थाने में बैठाने की जानकारी आज जैसे ही इंडियन मेडीकल एसोसियेशन से लेकर अन्य चिकित्सक एवं संगठनों को मिली वैसे ही वह भी विश्वविद्यालय थाने पहुंच गये। इतना ही नहीं चिकित्सकों ने थाने पर हंगामा करना शुरू कर दिया। काफी मशक्कत के बाद डॉ. प्रतिभा गर्ग को बयान लेकर पुलिस ने छोड तो दिया लेकिन आईएमए सहित जीआरएमसी के चिकित्सकों ने आज हडताल कर दी। चिकित्सकों का कहना है कि उन्हें बेवजह स्टिंग के नाम पर परेशान किया जा रहा है। चिकित्सक संगठन के पदाधिकारियों का कहना है कि यदि प्रशासन के पास कुछ सबूत हों तो वह दिखायें। इसके बाद सभी चिकित्सक हड़ताल पर चले गये चिकित्सकों का कहना था कि उन्हें झूठा फंसाया जा रहा है, एसडीएम का निलंबन हो वहीं चिकित्सकों को किसी प्रकार से परेशान ना किया जाये। उधर आज हड़ताल के दौरान चिकित्सकों ने जेएएच परिसर में धरना भी दिया जहां पर विधायक द्वय मुन्नालाल गोयल और प्रवीण पाठक भी डाक्टरों के समर्थन में पहुंचे। उन्होने राज्य की चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. विजयलक्ष्मी साधो से बात भी की।
उधर चिकित्सकों की हड़ताल के बाद प्रशासन ने भी करवट ली। और सभी चिकित्सक संगठनों के पदाधिकारियों के साथ एक बैठक रखी। कलेक्टर अनुराग चौधरी सहित जिला प्रशासन के अधिकारी पुलिस अधिकारी चिकित्सकों को मनाते रहे। बैठक में पहुंचे चिकित्सक पदाधिकारियों के साथ लगभग छह घंटे तक बात चीत की। बैठक में कलेक्टर अनुराग चौधरी ने पूरी घटना पर संवेदना व्यक्त की। वहीं तय किया गया कि संबंधित स्टिंग ऑपरेशन करने वाली एसडीएम का तत्काल प्रभाव से तबादला किया जाये। पूरे मामले की जांच के लिये तीन सदस्यीय समिति गठित की जायेगी जिसमें एडीएम तथा आईएमए के दो पदाधिकारी होंगे। वहीं दो जुलाई को चिकित्सकों की समस्याओं को लेकर एक चर्चा भी की जायेगी। इसके बाद चिकित्सकों ने कल रात से जारी अपनी हड़ताल को समाप्त कर दिया। इस अवसर पर आईएमए के अध्यक्ष डॉ. नीरज शर्मा, जेएएच के अधीक्षक डॉ. अशोक मिश्रा, डॉ. नितिन जैन, डॉ. एएस भल्ला, सहित अनेक चिकित्सक एवं चिकित्सक संगठनों के पदाधिकारी मौजूद रहे।