कोरबा । छत्तीसगढ़ में बेहाल स्वास्थ्य सेवाओ का ताजा मामला सामने आया है। यहां प्रसव के बाद जच्चा- बच्चा दोनों की मौत हो गई। पूरे मामले में अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाया जा रहा है। बताया जा रहा है कि महिला की प्रसव पीड़ा के दौरान अस्पताल में कोई भी डॉक्टर मौजूद नहीं था। जिसके बाद वहां मौजूद नर्स और अन्य स्टाफ ने प्रसव करवाया, परंतु जच्चा और बच्चा दोनों की मौत हो गई। दरअसल रविवार को कोरबा जिले के रंजना गांव निवासी इंद्रपाल चौहान ने अपनी पत्नी लक्ष्मी चौहान को प्रसव पीड़ा होने पर सीएससी में भर्ती कराया। लेकिन यहां डॉक्टर मौजूद नहीं थे। गर्भवती महिला की पीड़ा देखकर नर्स और अन्य स्टाफ ने उसका प्रसव कराया। लेकिन प्रसव के बाद नवजात की मौत हो गई और लक्ष्मी चौहान की हालत गंभीर होने पर उसे जिला अस्पताल रेफर किया गया ,लेकिन रास्ते में उसकी भी मौत हो गई। मृतक महिला के पति इंद्रपाल चौहान ने आरोप लगाया कि रंजना अस्पताल में सुविधाओं की कमी और डॉक्टर की अनुपस्थिति में प्रसव हुआ था, इसलिए ये हादसा हुआ। कोरबा के सीएमएचओ बीबी बोड़े ने कटघोरा बीएमओ को मामले में जांच के निर्देश दिए हैं।