इन्दौर । अन्नपूर्णा मंदिर के आचार्य पं. कल्याणदत्त शास्त्री के आचार्य पुत्र पं. महेशदत्त शास्त्री को अपने मॉरीशस  प्रवास के दौरान वहां के प्रधानमंत्री नवीन रामगुलाम से भी मुलाकात का मौका मिला, जिन्होंने भारतीय संस्कृति, विवाह एवं पूजा पद्धति तथा कर्मकांड की प्रशंसा करते हुए कहा कि भारत जैसा अध्यात्म और धर्म दुनिया के किसी देश में नहीं हो सकता।
आचार्य पं. शास्त्री को पिछले दिनों मॉरीशस  के रोजवेल शहर में रहने वाले पं. नागेंद्र शर्मा ने अपने बेटे गोविंद और खेमराज की बेटी दीक्षा का विवाह भारतीय पद्धति से कराने हेतु आमंत्रित किया था। पं. शास्त्री ने वहां पहंुचकर गणेश यज्ञ भी कराया और विवाह भी। विवाह के आशीर्वाद समारोह में मॉरीशस  के प्रधानमंत्री नवीन रामगुलाम भी आए जिन्होंने भारतीय आचार्य पं. शास्त्री से मुलाकात के दौरान उक्त टिप्पणी की। पं. शास्त्री ने बताया कि वहां के प्रधानमंत्री सहज रूप से विवाह एवं अन्य मांगलिक प्रसंगों पर बिना किसी तामझाम के पहुंचते हैं और सभी मेहमानों से सहज रूप से मिलते हैं। जब पं. नागेंद्र शर्मा ने पं. शास्त्री को रामगुलाम से मिलवाया तो उन्होंने बड़े उत्साह के साथ बातचीत की और शर्मा परिवार को भारतीय पद्धति से विवाह कराने के लिए बधाईयां दी।