जगदलपुर । । बस्तर गोंचा पर्व से शहर का पूरा माहौल भक्तिमय होता जा रहा है। इस भक्तिमय माहौल को और भी ज्यादा भक्तिमय बनाने में श्री श्री जगन्नाथ कथा की स्तुति अपना अहम योगदान दे रहा है। ओडि़सा प्रदेश के जगन्नाथ पूरी धाम से बस्तर पहुंचे पंडित बालकृष्ण पंडा एवं उनकी पूरी टीम जिनके द्वारा श्री श्री जगन्नाथ कथा की स्तुति का प्रवचन एवं भजनों के माध्यम से समा बांध रहे है।  शहर के श्रद्धालुओं की भीड़ श्री श्री जगन्नाथ स्वामी स्तुति को सुनने के लिए सिरहासार चौक गुंडिचा मंदिर के सामने बने सांस्कृतिक मंच में पहुंच रहे हैं। आज श्री श्री जगन्नाथ जी के कथा का परायण होगा। 
श्री श्री जगन्नाथ स्वामी की कथा की स्तुति का प्रवचन लोकप्रिय लोक भजन के साथ विगत 3 दिनों से जगन्नाथ पुरी धाम से यहां आए पंडित बालकृष्ण पंडा के द्वारा किया जा रहा है।  श्री श्री जगन्नाथ पुरी धाम का पूरा वर्णन उन्होंने अपने प्रवचन में करने के साथ ही भजनों के माध्यम से इसे और भी रोचक बनाते हुए श्रद्धालुओं के समक्ष प्रस्तुत किया। आज तक हम भागवत कथा के माध्यम से श्री हरि विष्णु के अवतार श्री कृष्ण के प्रवचन का रसास्वादन करते रहे लेकिन यह शहर के लिए पहली बार हो रहा है, कि बस्तर गोंचा पर्व ने श्री श्री जगन्नाथ स्वामी के प्रवचन-भजन के साथ ही भागवत गीता एवं पुराण का समावेश कर जगन्नाथ कथा का प्रवचन-भजन का रसास्वादन करने का अवसर श्रद्धालुओं को प्राप्त हुआ है। दिनांक 08/07/2019 को श्री श्री जगन्नाथ कथा-प्रवचन-भजन का अंतिम दिवस होगा इसके साथ ही जगन्नाथ की स्तुति का परायण किया जावेगा। 
इस संबंध में बस्तर गोंचा पर्व समिति के प्रमुख सलाहकार एवं जगन्नाथ चेतना मंच जगन्नाथपुरी  के सचिव ईश्वर खम्बारी ने बताया कि जगन्नाथ चेतना मंच जगन्नाथ पुरी की संस्था के द्वारा श्री श्री जगन्नाथ कथावाचक पंडित बालकृष्ण पंडा को बस्तर गोंचा पर्व में श्रद्धालुओं के समक्ष जगन्नाथ कथा की स्तुति को प्रवचन-भजन के माध्यम से रखने के लिए यहां विशेष तौर पर भेजा गया है। उन्होंने बताया कि आगे आने वाले वर्षों में श्री श्री जगन्नाथ स्वामी के संबंध में जितनी भी जानकारी वेद पुराणों एवं धार्मिक ग्रंथों में समाहित है उसकी जानकारी श्रद्धालुओं को प्रवचन-भजनों के माध्यम से पहुंचाने का प्रयास 360 घर आरण्यक ब्राह्मण समाज बस्तर गोंचा पर्व समिति करेगा।