नई दिल्ली: पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का रविवार दोपहर को निगम बोध घाट में अंतिम संस्कार किया जाएगा. जेटली का निधन शनिवार दोपहर 12 बजकर सात मिनट पर एम्स में हुआ था. उनका कुछ सप्ताह से अस्पताल में इलाज चल रहा था. वह 9 अगस्त को एम्स में भर्ती हुए थे. आज बीजेपी नेताओं और कार्यकताओं द्वारा पार्टी मुख्यालय में उन्हें अंतिम विदाई दी जा रही है. बीजेपी मुख्यालय से पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए निगम बोध घाट ले जाया जाएगा. जहां दोपहर 2.30 बजे उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.  
- रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी बीजेपी मुख्यालय में अरुण जेटली को श्रद्धांजलि अर्पित की
- रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी बीजेपी मुख्यालय में अरुण जेटली का श्रद्धांजलि
- योगगुरु रामदेव ने भी अरुण जेटली को श्रद्धांजलि दी.

- जेटली जी ने हमेशा पार्टी का मार्ग दर्शन कियाः गडकरी
- जेटली के जाने से देश और पार्टी को बहुत नुकसान हुआ है, कोई भी समस्या आने पर हम उनसे सलाह लेते थेः गडकरी

- केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अरुण जेटली को दी श्रद्धांजलि

- बीजेपी मुख्यालय में दोपहर 1 बजे तक होंगे अरुण जेटली के अंतिम दर्शन.


- गृह मंत्री अमित शाह के अलावा बीजेपी की कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भी अरुण जेटली को श्रद्धांजलि अर्पित की.
- गृह मंत्री अमित शाह ने बीजेपी मुख्यालय में दी अमित शाह को श्रद्धांजलि

- अरुण जेटली का पार्थिव शरीर बीजेपी मुख्‍यालय पहुंच गया है. उनके पार्थिव शरीर को यहां अंतिम दर्शनों के लिए रखा जाएगा.
- मिलिट्री ट्रक पर अरुण जेटली की बड़ी तस्वीर लगी है.

- अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को मिलिट्री ट्रक के पीछे एक ट्रॉली में रखा गया है. मिलिट्री ट्रक में सेना के अधिकारियों के साथ अरुण जेटली के बेटे बैठे हैं.

 

- अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को उनके निवास कैलाश कॉलोनी से मूलचंद से लाला लाजपत नगर मार्ग में लाजपत नगर मेट्रो स्टेशन से पंत नगर होते हुए,लोधी रोड फ्लाइओवर से सुंदर नगर, मथुरा रोड, ITO से दीन दयाल उपाध्याय मार्ग स्थित बीजेपी मुख्यालय लाया जाएगा.
- अरुण जेटली रक्षा मंत्री रहे हैं इसलिए उनके पार्थिव शरीर को सेना के ट्रक में बीजेपी मुख्यालय ले जाया जा रहा है. 
- मुकुल रॉय ने कहा कि ये देश की क्षति है.
- बीजेपी नेता राम माधव, कैलाश विजयवर्गीय और मुकुल रॉय भी अरुण जेटली को श्रद्धांजलि देने के लिए उनके घर पहुंचे.

- एनसीपी नेता शरद पवार, टीडीपी नेता चंद्रबाबू नायडू, आरएलडी नेता अजित सिंह और कांग्रेस नेता मोती लाल वोरा भी कैलाश कॉलोनी स्थित जेटली के निवास पर उनको श्रद्धांजलि देने पहुंचे.
- रविवार सुबह अरुण जेटली को श्रद्धांजलि देने विपक्षी नेता भी पहुंचे. 

- दोपहर 2 बजे अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को मुखाग्नि दी जाएगी

-  करीब 1 बजे बीजेपी दफ्तर से दिल्ली के निगम बोध घाट ले जाया जाएगा
-  अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को 9:25 बजे उनके आवास (कैलाश कॉलोनी) से बीजपी दफ़्तर ले जाया जाएगा. मिलिट्री ट्रक में उनके पार्थिव शरीर को ले जाया जाएगा. 

-  बीती रात अरुण जेटली के घऱ पर उनको श्रद्धांजलि देने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी पहुंची.
इससे पहले, शनिवार रात राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, कांग्रेस नेता सोनिया गांधी और कई अन्य राजनेताओं ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली को शनिवार को दक्षिण दिल्ली में स्थित उनके आवास पर श्रद्धासुमन अर्पित किए. शाह ने जेटली के आवास पर लगभग साढ़े तीन घंटे बिताये. विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं एवं बीजेपी कार्यकर्ताओं तथा उनके प्रशंसकों ने जेटली को अंतिम विदाई दी. जेटली का पार्थिव शरीर कांच के ताबूत में रखा गया. नेताओं ने इस दौरान श्रद्धासुमन अर्पित किए.
केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, हर्षवर्धन, जितेंद्र सिंह और एस. जयशंकर के अलावा बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा सहित विभिन्न नेताओं ने जेटली को अंतिम विदाई दी. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, अहमद पटेल, दिग्विजय सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया, राजीव शुक्ला के अलावा केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान तथा उनके पुत्र चिराग पासवान ने भी दिवंगत नेता को अंतिम विदाई दी. 
योगी आदित्यनाथ, अरविंद केजरीवाल, नवीन पटनायक, कमलनाथ समेत विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने जेटली के आवास पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी .रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, "वह अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी प्रसिद्ध थे. मंत्री रहते हुए देश उनके योगदान को कभी नहीं भूल सकता है. वह देश और पार्टी के लिए पूंजी थे . अब वह हमारे बीच नहीं हैं और मैं उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं."

पीएम मोदी बहरीन में बोले- मेरा दोस्‍त अरुण चला गया
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को अपनी विदेश यात्रा के तीसरे चरण में बहरीन पहुंचे. इस दौरान उनका स्वागत उनके बहरीन समकक्ष प्रिंस खलीफा बिन सलमान अल खलीफा ने किया. यहां के नेशनल स्‍टेडियम में  भारतीय समुदाय के लोगों के बीच पीएम मोदी ने अरुण जेटली को याद करते हुए कहा, मैं यहां बहुत बड़ा शोक दबाए खड़ा हूं. आज भारत में जन्‍माष्‍टमी की धूम है, लेकि‍न मेरे अंदर गहरा शोक है. कुछ दिन पहले बहन सुषमा चली गईं, और अब मेरा दोस्‍त अरुण चला गया. मैंने अपने सबसे अजीज मित्र को खो दिया. मैं कर्तव्‍य से बंधा हूं, इसलिए दोस्‍त के जाने का दुख है. मैं बहरीन की धरती से भाई अरुण को श्रद्धांज‍ल‍ि देता हूं.