देहरादून । उत्तराखंड के हिमालयी क्षेत्र में स्थित विश्व प्रसिद्ध बदरीनाथ धाम के कपाट आगामी 17 नवंबर को शीतकाल के लिए श्रद्धालुओं के दर्शन हेतु बंद कर दिए जाएंगे। विजयादशमी के पावन अवसर पर बदरीनाथ धाम में आयोजित विशेष समारोह के दौरान मंदिर के कपाट बंद किए जाने की तिथि घोषित की गई। श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह ने बताया कि विजयादशमी के अवसर पर परंपरागत पूजा अर्चना के बाद शीतकाल के लिये कपाट बंद करने का शुभ मुहूर्त निकाला गया। बीडी सिंह ने बताया कि मंदिर के कपाट रविवार, 17 नवंबर की शाम पांच बज कर 13 मिनट पर बंद होंगे। इसी तरह केदारनाथ मंदिर के कपाट 29 अक्टूबर को भैया दूज के अवसर पर सुबह श्रद्धालुओं के लिये बंद कर दिये जायेंगे । केदारनाथ के शीतकालीन गद्दी स्थल उखीमठ में इस हेतु आयोजित पूजा एवं समारोह के बाद मुहूर्त निकाला गया। बता दें कि शीतकाल में बर्फबारी और भीषण ठंड के कारण चारों धामों (बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री) के कपाट शीतकाल के लिए बंद किए जाते हैं जो अगले साल अप्रैल-मई में दोबारा श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोल दिए जाते हैं। इस साल कल सात अक्टूबर तक 10 लाख 81 हजार से अधिक तीर्थयात्रियों ने भगवान बदरी विशाल के दर्शन किए। बदरीनाथ में तिथि और मुहूर्त निकाले जाने के मौके पर मंदिर समिति के अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल, मंदिर के मुख्य पुजारी रावल ईश्वरी प्रसाद नम्बूदरी, धर्माधिकारी भुवन उनियाल समेत बडी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया।