बिलासपुर । डॉ. नंद कुमार साय, अध्यक्ष, राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के साथ महाप्रबंधक, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे की बैठक दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे, जोनल सभा कक्ष में संपन्न हुई। इस बैठक में अध्यक्ष के साथ राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के सदस्य हरीकृष्ण डामोर, श्रीमति माया चिंतामण इवनाते एवं हर्षदभाई चुन्नीलाल वसावा, सहायक निदेशक, राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग आर.के.दुबे, अनुसंधान अधिकारी राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग, छ.ग. पी.के.दास  तथा दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के महाप्रबंधक गौतम बनर्जी के साथ मुख्यालय के समस्त विभागाध्यक्ष, सचिव, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे, उपमहाप्रबंधक (सा.) सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे। बैठक में सर्वप्रथम गौतम बैनर्जी, महाप्रबंधक, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने डा. नंद कुमार साय, अध्यक्ष, राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग सहित समस्त अतिथियों स्वागत किया। इसके पश्चात अपने स्वागत भाषण में गौतम बैनर्जी, महाप्रबंधक ने अध्यक्ष, राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग सहित समस्त अतिथियों का स्वागत करते हुए दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे की उपलब्धियों के बारे में विस्तार से बताते हुए दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे की समस्त उपलब्धियों के लिए यहां के अधिकारियों एवं कर्मचारियों की लगन एवं कर्मठता को बताया । साथ ही उन्होनें  अध्यक्ष, राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग सहित समस्त अतिथियों के बिलासपुर आगमन पर रेलवे को महत्व दिये जाने के लिए आभार व्यक्त कर अनुसूचित जनजाति वर्ग के कर्मचारियों के हितो एवं उनके जानकारी देते हुए निरंतर मानीटरिंग करने की बात कही। इसके पश्चात सचिव, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे हिमांशु जैन के द्वारा पावरपाइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के द्वारा उपलब्ध कराई गयी यात्री सुविधा एवं उपलब्धियों की जानकारी दी गई। मुख्य अतिथि नंद कुमार साय, अध्यक्ष, राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग ने अपने उद्वबोधन में कहा कि दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे की गौरवशाली परंपरा को आप लोग अच्छी तरह आगे बढ़ा रहे है एवं आशा है कि यह क्रम आगे भी जारी रहेगी। उन्होनें दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में अनूसुचित जनजाति वर्ग के रेलकर्मिंयों तथा इस वर्ग में रिक्त पदों को भरे जाने की भी जानकारी ली। साथ ही उन्होनें इस वर्ग के कर्मचारियों की पदोन्नति, स्थानांतरण एवं भर्ती के लिए नियमानुसार प्रक्रिया पर ज़ोर दिया। उन्होनें आगे अनूसुचित जनजाति के उत्थान के लिए पूरे देश में रेल के परिप्रेक्ष्य में जनजाति इलाकों के विकास में रेलवे की भूमिका के संबंध में चर्चा की । इस अवसर पर उन्होनें अलग-अलग जगहों पर आयोग के कार्यकाल के दौरान सज्ञान में आए महत्वपूर्ण विषयों एवं अनुभवो को भी सभी के साथ साझा किया। इसके पश्चात चर्चा के दौरान अध्यक्ष, राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग एवं उनके साथ आये अन्य अतिथियों के द्वारा इस रेलवे में जनजाति कर्मियों के हितो से संबंधित जिज्ञासाओं का निराकरण मुख्य कार्मिक अधिकारी सुखबीर सिंह एवं अन्य अधिकारियों के द्वारा किया गया। बैठक के अंत में मुख्य कार्मिक अधिकारी (प्रशा.) दीपक गुप्ता के द्वारा धन्यवाद ज्ञापित किया गया।