हांगकांग,हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक आंदोलनकारियों का विरोध प्रदर्शन जारी है. इस बीच सोमवार को दर्जनों आंदोलनकारी पुलिस घेराबंदी से भाग गए. इससे पहले चीन ने चेतावनी जारी की थी कि वह हांगकांग संकट से निपटने के लिए कोई बड़ा कदम उठा सकता है.
कई दिनों से जारी उठापटक के बीच सोमवार को एक नाटकीय घटना में दर्जनों लोकतंत्र समर्थक रस्सी का सहारा लेकर पुलिस घेराबंदी से फरार हो गए. घटना के मुताबिक, प्रदर्शनकारी रस्सी का सहारा लेकर एक पुल से नीचे उतरे और पहले से इंतजार में खड़ी बाइकों पर सवार होकर चलते बने.
हांगकांग में मंगलवार सुबह प्रदर्शनकारी और पुलिस के बीच झड़प हो गई. पुलिस ने ऐलान किया था कि आंदोलन पर काबू पाने के लिए हांगकांग पॉलिटेक्निक यूनिवर्सिटी (पॉलीयू) में कार्रवाई की जा सकती है. विरोध प्रदर्शन की रफ्तार कुंद करने के लिए हांगकांग पुलिस ने पॉलिटेक्निक यूनिवर्सिटी में छात्रों की घेराबंदी की है. इस बात पर आंदोलनकारी और भी उग्र हो गए और उन्होंने अपना विरोध तेज कर दिया है.
सोमवार देर रात एक फुटब्रिज पर दर्जनों काले पोशाक पहने प्रदर्शनकारियों ने रस्सियों को कई मीटर नीचे एक सड़क पर गिरा दिया और मोटरबाइक के सहारे वहां से फरार हो गए. इससे पहले हजारों प्रदर्शनकारी अपने साथियों को छुड़ाने के लिए पॉलिटेक्निक यूनिवर्सिटी की तरफ बढ़े थे जिसके बाद पुलिस से उनकी झड़प हो गई. घटना कोलून इलाके की है. एक प्रदर्शनकारी ने न्यूज एजेंसी एएफपी को बताया कि यूनिवर्सिटी कैंपस में अब भी दर्जनों लोग जमा हैं. हालांकि पुलिस से समझौते के बाद नाबालिग प्रदर्शनकारियों को वहां से जाने दिया गया.
हांगकांग में लोकतंत्र की मांग को लेकर कई दिनों से विरोध प्रदर्शन चल रहा है. इस कारण कहीं कहीं से हिंसा की भी खबरें हैं. आंदोलन को देखते हुए स्कूल-कॉलेज बंद हैं, ट्रेन सेवाएं प्रभावित हैं और कई सड़कें सूनी पड़ी हैं. चीन लोकतंत्र समर्थकों की मांग मानने से इनकार कर रहा है. उसने चेतावनी दी है कि हांगकांग में किसी प्रकार की अफरा-तफरी बर्दाश्त नहीं की जाएगी. यहां की सड़कों पर चीनी सेना के जवान भी दिख रहे हैं. इससे कयास लगाए जा रहे हैं कि चीन भविष्य में आंदोलन पर काबू पाने के लिए बड़ा कदम उठा सकता है.