संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत सोमवार को हंगामेदार रही. कांग्रेस समेत विपक्ष की कई पार्टियों ने लोकसभा में जम्मू-कश्मीर के मसले पर हंगामा किया. मंगलवार की शुरुआत भी हंगामेदार रही. अब मंगलवार को सदन में दिल्ली-एनसीआर में बढ़ रहे प्रदूषण के मसले पर चर्चा हो रही है. केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर भी इस मामले में जवाब देंगे. इसके अलावा चिटफंड बिल को भी सदन में पेश किया जा सकता है.लोकसभा में प्रदूषण पर चर्चा चल रही थी. बिहार के पश्चिम चंपारण से बीजेपी सांसद डॉ. संजय जायसवाल ने अपनी बात रखनी शुरू ही की थी. लेकिन इसी बीच लोकसभा की समयावधि पूरी हो गई और अध्यक्ष ओम बिरला ने सदन की कार्यवाही बुधवार 20 नवंबर 2019 सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित होने की घोषणा कर दी.


मनोज तिवारी ने दिल्ली सरकार पर बोला हमला
उत्तर-पूर्व दिल्ली से बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने चर्चा में अपनी बात रखते हुए कहा कि एयर पॉल्यूशन स्टेट सब्जेक्ट है, क्या हम ऐसा कोई प्रावधान नहीं कर सकते कि अगर कोई स्टेट इस पर कोई बहानेबाजी करता रहे तो उस पर कोई कार्रवाई की जा सके, जनता के बीच बताया जा सके कि आप अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे हो. दिल्ली के एयर पॉल्यूशन को दूर करने के लिए केन्द्र से 9हजार करोड़ के फंड आते हैं जिसे दिल्ली सरकार ने रोक दिया. स्प्रिंग्लर खरीदने के लिए हमें केन्द्र से बजट लाना पड़ा. दिल्ली में कूड़े का पहाड़ हटाने के लिए जो एमसीडी का बजट आना चाहिए उसके लिए हमें केन्द्र के पास जाना पड़ा. हम भी किसान के बेटे हैं, हम कहना चाहते हैं कि अगर पराली से समस्या है तो राज्य सरकार वह पराली खरीदने की कोई योजना क्यों नहीं बनाती. दिल्ली में पॉल्यूशन से बचने का जो एड है उसका 200 करोड़ बजट है जबकि मात्र 50 करोड़ में में एनसीआर का पराली खरीद सकते थे लेकिन ऐसा नहीं किया गया. इस पर भी कुछ ना कुछ निर्देश जाना चाहिए.

गंभीर बोले- एयर पॉल्यूशन से हर 3 मिनट में होती है 1 बच्चे की मौत
दिल्ली पूर्व से बीजेपी सांसद गौतम गंभीर ने चर्चा में हिस्सा लेते हुए कहा कि आइडिया जनता को साफ हवा देने का होना चाहिए. पराली पर रोक ही एकमात्र विकल्प नहीं है. एकदूसरे को ब्लेम करने से या इसे चुनाव के हिसाब से देखने से बहुत बुरा होगा. जनता ने हमें वोट एक-दूसरे पर कीचड़ उछालने के लिए नहीं बल्कि बेहतर काम करने के लिए दिया है. एयर पॉल्यूशन से हर तीन मिनट में 1 बच्चे की मौत होती है. हमें शॉर्टकट के बजाय लॉग-टर्म सोल्यूशन पर सोचना चाहिए नहीं तो हमारे बच्चों को इसकी बड़ी कीमत चुकानी होगी.

कांग्रेस सांसद बोले- कोई एक्शन प्लान लेकर आइए
पंजाब के फतेहहढ़ साहिब से कांग्रेस सांसद अमर सिंह ने चर्चा के दौरान कहा कि पर्यावरण को लेकर बहुत खराब खबरें आ रही हैं. बारिश का पैटर्न पूरी तरह बदल चुका है. ग्लेशियर की हालत भी बहुत खराब हैं. वे बहुत स्पीड से कम हो रहे हैं. इसे बहुत गहराई से देखने की जरूरत है. इससे सबसे ज्यादा किसान होगा. पंजाब की पांचों नदियां सफर कर रही हैं. यहां की सरकार ही जब इसे गैस चैंबर कह रही है. एनडीए का यह 6वां साल शुरू हो गया. अब 6वें साल दिल्ली की पॉल्यूशन और क्लाइमेट चेंज को लेकर कोई तो एक्शन प्लान लेकर आइए. किसान पराली जलाता क्यों है वह कारण हमें समझना होगा. उसे गेहूं बीजना होता है 2 महीने के अंदर वो इतनी महंगी मशीन लाएगा कहां से. किसान के ऊपर जो भार डाला जा रहा है उसकी जिम्मेदारी केन्द्र ले राज्य सरकार के पास पैसे नहीं होते.


टीआरएस सांसद ने बताए अपनी सरकार के उपाय
तेलंगाना के खम्माम से टीआरएस सांसद नामा नागेश्वर राव ने कहा कि पिछले 5 साल में हमने 176 करोड़ वृक्षारोपण सिर्फ तेलंगाना में हुआ. इसके साथ-साथ एक्ट में बदलाव कर हमने पेड़ को बचाने की जिम्मेदारी सरपंच पर डाली है. अगर एक भी पेड़ खराब होता है सरकार सरपंच को हटा सकती है. सरपंच को भी अधिकार दिया है जुर्माना लगाने का. इसी तरह म्यून्सिपालिटी में भी एक्ट लागू किया है. हमने तीन गुना फॉरेस्ट को डवलप किया. हमरा स्टेट सबको वेलकम करता है. प्लीज आइए और देखिए कि हमने कैसे बदलाव लाया है.


बीएसपी सांसद दानिश अली ने रखी इंटीग्रेटेड पॉलिसी की बात
यूपी के अमरोहा से बीएसपी सांसद कुंवर दानिश अली ने कहा कि जो राज्य के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड हैं वे क्या काम करते हैं यह किसी से छुपा नहीं है. आज जो स्थिति हो गई है, यह सवाल केवल दिल्ली का नहीं है पूरे देश का है. हमारे पास इंटीग्रेटेड पॉलिसी का अभाव है. हमने ऐलान तो कर दिया कि इलेक्ट्रिक व्हीकल लाएंगे लेकिन वे आ नहीं रहे. प्रचार चल रहा है कि दिल्ली के पॉल्यूशन के लिए किसान जिम्मेदार हैं. किसान अपनी बात नहीं रख सकते इसलिए किसान को जिम्मेदार ठहरा दो. केवल किसान की वजह से प्रदूषण नहीं हो रहा है, वह एक वजह है, लेकिन सिर्फ वही जिम्मेदार नहीं है. यहां किस तरह कंस्ट्रक्शन हो रहा है, क्या कोई मानक है, क्या कोई उन मानकों को मानता है, नहीं किया जाता. हमारी सरकार की यह एक महत्वाकांक्षी उम्मीद है कि हमारी अर्थव्यवस्था 5 ट्रिलियन हो जाए. लेकिन प्रदूषण की वजह से जीडीपी ग्रोथ में कमी आती है. क्या यह अहम मुद्दा नहीं है. हर कॉरपोरेट लॉबी अपना फायदा उठाती है. लोग ब्रांड एंबेसडर बन रहे हैं और एयर प्योरिफायर बेचने का प्रचार कर रहे हैं. लंग कैंसर जिस वजह से बनता है, कितनी मौतें होती हैं. हम एसी चैंबर में बैठकर इस पर चर्चा कर रहे हैं. जरा उनके बारे में सोचिए जो झोपड़ी में रहते हैं. जब ठंडी होती है तो वे आग जलाकर गर्मी लेते हैं. मुझे उम्मीद है कि एक इंटीग्रेटेड पॉलिसी बने और इससे हमारी आने वाली पीढ़ी निजात पा सके.


पर्यावरण प्रदूषण का मुख्य कारण पर्यावरण से छेड़खानी है: जेडीयू सांसद दिलेश्वर कामैत

बिहार के सुपौल से जेडीयू सांसद दिलेश्वर कामैत ने कहा कि पर्यावरण प्रदूषण के मुख्य कारण हैं पर्यावरण से छेड़खानी. आज पेड़ काटे जा रहे हैं. इसका सबसे ज्यादा असर बच्चों पर पड़ता है. नवजात शिशु बुरी तरह से बीमार हो जाते हैं. राजधानी में ऐसे हालात हैं कि यहां हेल्थ इमरजेंसी घोषित करना पड़ा. आप सबसे निवेदन है कि समाज में इस पर चर्चा करें और लोगों को इससे निपटने के उपाय बताएं. सबसे आसान उपाय हैं वृक्ष लगाना, सोलर लाइट का इस्तेमाल करना. बिहार में जल-जीवन हरियाली अभियान को लॉन्च किया गया है. इससे राज्य में ग्रीन बेल्ट की बढ़ोतरी होगी. भू-जलस्तर भी सुधरेगा जिससे पीने के पानी की समस्या भी दूर होगी. मैं निवेदन करता हूं कि यह योजना पूरे देश में लागू की जाए. राज्य सरकार का इसमें पूरा सहयोग लें.