भोपाल. नये साल में मध्य प्रदेश की कमलनाथ (CM Kamalnath) सरकार नौजवानों को बड़ा तोहफा (New Year Gift) देने जा रही है. इसके तहत सरकार की तरफ से 1 जनवरी 2020 से प्रदेश के युवाओं को रोजगार (employment) के लिए प्रशिक्षण देने का काम शुरू हो जाएगा. इसके लिए एमएसएमई टेक्नोलॉजी सेंटर (MSME technology centre) बनकर तैयार हो गया है. इसका निर्माण अचारपुरा में 26 एकड़ जमीन पर 122 करोड़ की लागत से किया गया है. प्रदेश सरकार के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने बताया कि वैसे तो एमएसएमई टेक्नोलॉजी सेंटर पहले से ही कई जगहों पर चल रहे हैं, लेकिन नए साल में युवाओं को रोजगार से जोड़ने को सरकार ने नया एक्शन प्लान बनाया है. इसके तहत पहले से चल रहे सेंटरों में कुछ बदलाव भी किए जा रहे हैं.

योजना के प्रमुख बिंदु
- सेंटर में हर साल 20 हजार युवाओं को प्रशिक्षण देने का लक्ष्य
- युवाओं को एडवांस परफॉर्मेंस ट्रेनिंग देकर रोजगार, स्वरोजगार के लिए स्किल मैन पावर के रूप में तैयार किया जाएगा

- पहले साल में 8 हजार छात्रों को ट्रेंड करने का लक्ष्य
- सेंटर में एक माह से 4 साल तक के 70 तरह के कोर्स संचालित किए जाएंगे
- सेंटर में छात्र-छात्राओं को हॉस्टल की सुविधा मिलेगीये कोर्स होंगे संचालित
लॉन्ग टर्म कोर्स- पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन टूल डिजाइन एंड केड/केम, पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मेकेनिकल प्रोडक्ट डिजाइन, पोस्ट डिप्लोमा इन टूल डिजाइन एंड केड/केम, पोस्ट डिप्लोमा इन टूल एंड डाई मैन्युफैक्चरिंग आदि जैसे 17 कोर्स.
शॉर्ट टर्म कोर्स- मैकेनिकल समेत विभिन्न ब्रांच में सॉलिड वक्र्स, मास्टर केम, डेल केम, केटिया, यूनिग्राफिक्स, क्रियो, एनसिस, हाइपरमेस, वीएलएसआई, पीएलसी, स्टाडा, सीकेड आदि.
मीडियम टर्म कोर्स- कम्प्यूटर एडेड टूल इंजीनियरिंग, केडकेम, टूल डिलाइज, मैकाट्रोनिक्स, प्रोडक्ट डिजाइन आदि में मास्टर सर्टिफिकेट कोर्स इन एडवांस, डिप्लोमा इन स्ट्रक्चरल डिजाइन एंड एनॉलिसिस आदि.

सरकार के दावे पर बीजेपी का सवाल
प्रदेश के युवाओं को रोजगार से जोड़ने को सरकार के इस एक्शन प्लान पर बीजेपी ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं. बीजेपी नेता रजनीश अग्रवाल ने कहा कि कमलनाथ सरकार अपने वचन पत्र को निभाने के लिए जो भी कवायद कर रही है, वह सभी मात्र कागजी कार्रवाई तक सीमित है. हकीकत में जनता के हित में एक भी वचन सही तरीके से सरकार ने पूरा नहीं किया है. बीजेपी का आरोप है कि कमलनाथ सरकार ने एमपी में सरकारी भर्ती रोकने का काम किया है. बहरहाल, भाजपा के आरोपों से इतर, प्रदेश सरकार एमएसएमई सेंटर पर कैडकेम और मशीन शॉप की लैब तैयार करने में जुटी है. अभी 6 लैब और तैयार किए जाने हैं. इसके अलावा प्रदेश की कंपनियों के एचआर मैनेजर से चर्चा कर उनकी जरूरत पता की जा रही है.