सत्तर के दशक में झाबुआ-धार के गांवों में करवाया था सौ शौचालयों का निर्माण

इंदौर  ।भारत में जन्मी और शिकागो (यूएसए) में रच बस गईं श्रीमती संतोष कुलश्रेष्ठ कुमार ने सतत 30 वर्षों से वहां के बुजुर्गों की सेवा करते हुए इतना नाम कमा लिया कि वहां की संसद (कांग्रेस) ने उन्हें मदर टेरेसा ऑफ शिकागो' के सम्मान से नवाजा है। यही नहीं देश-विदेश में अनेक पुरस्कारों से सम्मानित संतोष कुमार सत्तर के दशक में झाबुआ धार जिले के गांवों में खुद के खर्च से करीब 100 शौचालय निर्मित करा चुकी हैं, जबकि मोदी सरकार के प्रयासों से अब पूरे देश में इस अभियान ने जोर पकड़ा है।
गुजरात से मप्र की तरफ आते हुए जब उन्होंने झाबुआ, बड़वानी, धार जिले के गांवों में आदिवासी महिलाओं को खेतों और सड़क किनारे खुले में शौच करते देखा तो मन द्रवित हो गया।सत्तर के दशक में उन्होंने इन गांवों में करीब 100शौचालय निर्मित कराए। प्रति शौचालय 800रु खर्च आया था तब उज्जैन निवासी विमल व्यास ने उनकी मदद की थी, तब से उनके भी पारिवारिक संबंध बन गए।राजस्थान में जन्मी और आगरा के बरहन गांव में ब्याही संतोष आईआईटी खडगपुर से पास आउट प्रमोद कुमार से विवाह के बाद शिकागो में बस गईं।पति की मौत के बाद से करीब तीन दशक से उन्होंने खुद को वहां रह रहे वरिष्ठ नागरिकों की सेवा के लिए समर्पित कर रखा है।एक विवाह समारोह में इंदौर आईं संतोष कुमार ने मीडिया से चर्चा में कहा वे शिकागो (यूएसए) में वरिष्ठ नागरिकों के लिए मेट्रोपोलिटिन एशियन फेमिली सर्विसेज एंड यूनिवर्सल मेट्रो सर्विसेज के माध्यम से निशुल्क सेवा कर रही हैं।सीनियर सिटीजन के लिए होम केयर, एडल्ट के लिए होम केयर फार डेली लिविंग एंड मेडिकल होम केयर कार्य, पब्लिक बेनिफिट प्रोग्राम, मेडिकेयर, फूड-केश बेनिफिट, लाईट एंड हीट प्रोग्राम, फ्री लीगल सर्विसेज आदि कार्य संचालित कर रही हैं। वे शिकागो सहित 250 शहरों में कुल 14 सेंटर के 6 हजार कर्मचारियों के सहयोग से वरिष्ठ नागरिकों की जरूरतों की पूर्ति तो कर ही रही हैं उनके स्वास्थ्य की देखभाल भी कर रही हैं।एक सेंटर 25 से 35 शहरों को कवर करता है।तीन दशक से अधिक समय से चल रहे इन सेवा कार्यों के लिए यूएसए द्वारा 70 प्रतिशत फंड उपलबध कराया जाता है। बाकी 30 प्रतिशत राशि वर्ष में दो फंक्शन कर फंड जुटाती हैं। 
भारत के विभिन्न राज्यों में सम्मान और
शिकागो में मदर टेरेसा वाली पहचान
10 हजार से अधिक सीनियर सिटीजन के लिए पिछले 30 वर्षों से सेवा कार्य करते रहने के कारण उन्हें 'मदर टेरेसा ऑफ शिकागो' के सम्मान से अलंकृत किया गया है। इसके साथ ही भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी से लेकर मप्र के तत्कालीन मुख्यमंत्री श्यामा चरण शुक्ल, दिल्ली की सीएम रहीं (स्व)शीला दीक्षित, राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे आदि सम्मानित कर चुके हैं।गुजरात के राज्यपाल नवल किशोर शर्मा ने गुजरात में भूकंप के दौरान किए सेवा कार्यों के लिए सम्मानित किया, बिहार में आए भूकंप के दौरान किए सेवा कार्यों के लिए बिहार सरकार भी सम्मानित कर चुकी हैं।