अलीराजपुर.कोरोना वायरस से बचाव के लिए जारी लॉक डाउन के दौरान कई लोग अपने घरों से दूर हैं. वो जहां हैं वहीं रह गए हैं. लॉक डाउन का असर पूरे देश में काम-काज पर भी पड़ा है. सबसे ज़्यादा मार रोज कमाकर खाने वाले दिहाड़ी मज़दूरों और रेहड़ी लगाने वाले लोगों पर पड़ रही है. अलीराजपुर से पड़ोसी राज्य गुजरात गए मजदूर अब अपने देश लौट रहे हैं. कोई साधन ना होने के कारण ये लोग छोटे-छोटे बच्चों के साथ पैदल ही चल पड़े हैं. ये इस उम्मीद में आ रहे हैं कि घर लौटकर शायद दो वक्त की रोटी का जुगाड़ हो जाए.

घर लौट पड़े मज़दूर
अलीराजपुर ज़िला सीमा पर होने के कारण यहां के ज़्यादातर गरीब परिवार मेहनत-मजदूरी के लिए गुजरात चले जाते हैं. लेकिन अब कोरोना से बचाव के कारण लॉक डाउन होने से काम धंधा बंद हो गया है. ये वो मज़दूर हैं जो रोज कमाकर खाते हैं. काम ना मिलने से ये बदहवास होकर अपने घरों की ओर चल दिए हैं. अलीराजपुर के ये मज़दूर पूरे गुजरात में काम की तलाश में एक से दूसरी जगह पलायन करते रहते हैं. यह लोग गुजरात के सूरत,अंकलेश्वर और अन्य जगहों में मजदूरी कर रहे थे. लेकिन अब ये सब वाहन नहीं मिलने के कारण पैदल ही निकल पड़े. इनके साथ महिलाएं और छोटे-छोटे बच्चे हैं. बताया जा रहा है इनके पास ना तो पैसे हैं और न ही खाने पीने का कोई सामान.
प्रशासन अलर्ट
इस बात की खबर जब अलीराजपुर जिला प्रशासन को लगी तो वो तुरंत ही हरकत में आया है और गुजरात से सटी सीमा पर सरकारी अमले को अलर्ट किया. सबसे पहले इन लोगो की जांच होगी. उसके बाद ही पता लगेगा कि जिला प्रशासन इन लोगों के लिए क्या व्यवस्था करता है.