भोपाल. राजधानी भोपाल में प्रशासन की ओर राशन (Ration) व्यवस्था के इंतजाम की पोल खुल चुकी है. भोपाल में सीएम हेल्पलाइन (Cm Helpline) पर आई 14 हजार 834 शिकायतों में से 9 हजार 513 शिकायतें राशन नहीं पहुंचने के संबंध में आई है. इसका साफ मतलब है कि लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान गरीबों को भोजन नहीं मिलने का संकट काफी गहराता जा रहा है. सीएम हेल्पलाइन को शुरू हुए 16 दिन हो चुके हैं और इसपर करीब 15 हजार शिकायतें आई हैं जिसमें से 9.5 हजार से ज्यादा शिकायतें राशन नहीं पहुंचाने संबंधी आई हैं. वहीं दूसरी ओर प्रशाासन की ओर से सख्ती बरते जाने के कारण 250 से ज्यादा कम्युनि​टी किचन बंद किए जा चुके हैं.

मध्य प्रदेश में लगातार आ रहे कोरोना पॉजिटिव के मामलों के कारण सीएम शिवराज सिंह चौहान ने सख्ती बरतनी शुरू कर दी है. राज्य में सबसे ज्यादा कोरोना वायरस प्रभावित भोपाल, इंदौर और उज्जैन को टोटल लॉकडाउन करने के बाद सरकार ने 15 जिलों के 46 क्षेत्रों को हॉटस्पॉट घोषित कर दिया है.

इन 15 जिलों में घोषित किए गए हैं हॉटस्पॉट

इस तरीके से सरकार ने प्रदेश के 18 जिलों को कोरोना संक्रमण के मामले में हाई रिस्क शहर मानते हुए वहां युद्ध स्तर पर अभियान छेड़ दिया है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश के बाद प्रदेश के 15 जिलों के 46 क्षेत्रों हॉटस्पॉट घोषित कर दिया गया है. इसमें जबलपुर जिले के 8, ग्वालियर जिले के 6, खरगोन जिले के 5, मुरैना का एक, शिवपुरी का एक, बड़वानी के 5, बैतूल का एक, विदिशा के दो, श्योपुर का एक, छिंदवाड़ा के पांच, रायसेन का एक, होशंगाबाद के तीन, खंडवा के दो, धार का एक और देवास जिले के 4 क्षेत्र शामिल हैं.