सरायकेला. जिले के चांडिल प्रखंड के भुइयाडीह गांव में कोरोना वायरस (Coronavirus) के दवा के नाम पर फ्लू (Flu) की दवा बांटने का मामला सामने आया है. डीसी ए दोड्डे इस मामले पर कड़ा रुख अपनाते हुए जांच टीम गठित कर छानबीन का आदेश दिया है. जांच टीम ने गांव का दौरा कर बांटी गई दवा के सैंपल कलेक्ट कर लिये हैं. डीसी ने कहा कि जांच रिपोर्ट आने पर दोषी कंपनी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. स्थानीय दवा कंपनी ने फ्लू की दवा को कोरोना वायरस की दवा कहकर ग्रामीणों में बांट दी.

स्थानीय लोगों ने स्वास्थ्य मंत्री को दी जानकारी 

इस सिलसिले में स्थानीय लोगों ने सूबे के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता को सोशल मीडिया पर जानकारी दी. स्वास्थ्य मंत्री ने तत्काल संज्ञान लेते हुए सरायकेला जिला प्रशासन को जांच कर कार्रवाई का निर्देश दिया. स्वास्थ्य मंत्री के निर्देश पर डीसी ए दोड्डे ने जांच टीम गठित की है. टीम में चांडिल के प्रखंड विकास पदाधिकारी प्रवेश कुमार साहू, सीएचसी चांडिल के प्रभारी डॉ. शेखर, चांडिल थाना प्रभारी मनोहर कुमार शामिल हैं.

कंपनी पर कार्रवाई की तैयारी 
जांच दल ने गांव का दौरा कर ग्रामीणों में बांटी गई दवा कलेक्ट कर ली है. आरोपी कंपनी के लोगों से भी पूछताछ की गयी है. चांडिल प्रखंड विकास पदाधिकारी प्रवेश कुमार साहु ने बताया कि बरामद दवा सर्दी खांसी मिटाने के लिए फ्लू की दवा है. मगर इसे कोरोना की दवा कहकर बांटा गया. यह गलत है. आरोपी कंपनी पर कानून सम्मत कार्रवाई की जाएगी. हालांकि कंपनी सील करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि अभी ऐसा नहीं किया जाएगा.